BLOG

लकवा का आयुर्वेदिक इलाज और दवा – Ayurvedic Treatment for Paralysis in Hindi

Paralysis, जिसे हिंदी में “लकवा” या “अपक्षय” भी कहा जाता है, जिसमें व्यक्ति के शारीरिक गतिविधियों में कमी होती है। यह कमी आमतौर पर एक ओर या दोनों ओर हो सकती है और यह गंभीर बीमारी हो सकती है। लकवे के लक्षण व्यक्ति के प्रभावित क्षेत्र और प्रकार पर निर्भर करते हैं, लेकिन कुछ प्रमुख लक्षण निम्नलिखित होते हैं:

  • मुंह से लार गिरना|
  • मांसपेशियों की कमजोरी होना|
  • सोचने-समझने की क्षमता मैं कमी|
  • शारीरिक क्षमता की कमी|
  • अचानक चक्कर आना|
  • एक ओर नाक और मुंह का सुन्न हो जाना|
  • आंखों के सामने की चीजों को सही रूप से देख पाने में कठिनाई|
paralysis

Please post your health issues.
Our Ayurveda expert will get back to you.

पैरालिसिस का आयुर्वेदिक इलाज:

आयुर्वेद, भारतीय परंपरागत चिकित्सा, पैरालिसिस जैसे समस्याओं का इलाज करने के लिए एक अद्वितीय दृष्टिकोण प्रदान करता है। इस इलाज को योग्य आयुर्वेदिक चिकित्सक के मार्गदर्शन में किया जाना चाहिए। इस उपाय में जीवनशैली में परिवर्तन, जड़ी-बूटियों का प्रयोग, और चिकित्सा प्रक्रियाएँ शामिल हो सकती हैं।

• पंचकर्म थेरेपी: पंचकर्म विषाक्ति को निकालने के लिए कई प्रकार की शोधन प्रक्रियाएँ हैं। इसमें अभ्यंग (मालिश), स्वेदन (पसीना), और बस्ति (एनिमा) जैसी विशिष्ट थेरेपीज शामिल हो सकती हैं।

• औषधीय सुझाव:

  • अश्वगंधा (Withania somnifera): इससे मानसिक तनाव कम हो सकता है और तंतु स्वास्थ्य को समर्थन किया जा सकता है।
  • ब्राह्मी (Bacopa monnieri): यह संज्ञानशीलता में सुधार कर सकती है और तंतु स्वास्थ्य को समर्थन कर सकती है।
  • गुग्गुल (Commiphora wightii): इसका उपयोग तंतु स्वास्थ्य के लिए किया जा सकता है।

• आयुर्वेदिक आहार:

  • सूखे, ठंडे, और प्रसंस्कृत भोजनों से बचें।
  • सूप, स्टू, और पके हुए सब्जियाँ जैसे उष्ण और सुलभ पचने वाले भोजनों को शामिल करें।

• जीवनशैली के सुझाव:

  • योग और प्राणायाम: ये साधने में सहायक हो सकते हैं।
  • ध्यान: स्ट्रेस कम करने और मानसिक स्पष्टता में मदद करने के लिए ध्यान का अभ्यास करें।

sushainclinic.com पर पैरालिसिस विशेषज्ञ आयुर्वेदिक डॉक्टरों के साथ सलाह के लिए उपलब्ध हैं। आयुर्वेदिक चिकित्सक से मिलकर अपनी विशिष्ट स्थिति की जांच करें और व्यक्तिगत इलाज योजना तैयार करवाएं

लकवा के लक्षण (lakwa ke lakshan) व्यक्ति के प्रभावित क्षेत्र और वर्गीकरण के हिसाब से भिन्न हो सकते हैं। यहां कुछ मुख्य लकवा के लक्षण (lakwa ke lakshan) दिए जा रहे हैं:

आर्द्रकिक लकवा (Hemiplegia):

  • इस प्रकार के लकवे में एक पक्षीय शरीर क्षेत्र में कशी का गठन होता है, जिससे व्यक्ति का एक हाथ और एक पैर प्रभावित हो सकता है।
  • व्यक्ति खड़ा नहीं हो सकता और उसका एक पक्ष का चेहरा अदृश्य हो सकता है।

पूर्णकिक लकवा (Paraplegia):

  • इस प्रकार के लकवे में व्यक्ति के दोनों पैर प्रभावित होते हैं।
  • व्यक्ति खड़ा नहीं हो सकता और कुर्सी या व्हीलचेयर की सहायता की आवश्यकता होती है।

सर्वकिक लकवा (Quadriplegia):

  • इस प्रकार के लकवे में व्यक्ति के दोनों हाथ और दोनों पैर प्रभावित होते हैं।
  • व्यक्ति सांस लेने में भी असमर्थ हो सकता है और पूरी तरह से दूसरों की सहायता की आवश्यकता होती है।

लकवा किन कारणों से हो सकता हैं? – Paralysis Causes in Hindi

तंत्रिका तंत्र शरीर की नियंत्रण प्रणाली और संचार प्रणाली है। निम्नलिखित स्थितियाँ लकवा का कारण बन सकती हैं:

  • स्पाइनल बिफिडा जन्म दोष है जिसके कारण लकवा होता है।
  • रीढ़ की हड्डी में दर्दनाक चोट।
  • मल्टीपल स्केलेरोसिस, गुइलेन बैरे सिंड्रोम जैसे ऑटोइम्यून रोग।
  • सेरेब्रल पाल्सी।
  • अनियंत्रित उच्च रक्तचाप।

कारण के उपचार के आधार पर योजना बनाई जाती है। – Lakwa ka ayurvedic upchar

1) अभ्यंग: महामाश तेल, धन्वंतरी तेल, क्षीरबाला तेल जैसे औषधीय तेल से प्रभावित हिस्से पर शरीर की मालिश करने से रक्त संचार बढ़ता है और पेशी प्रणाली मजबूत होती है।

2) स्वेदन (Swedan): योग और आयुर्वेद में, “स्वेदन” एक प्रक्रिया है जिसमें शरीर से विषैले तत्वों को बाहर निकालने के लिए स्वेद (स्वेट) का उत्सर्जन किया जाता है। यह शरीर की सारीगर्मी को बढ़ाने और आपके शारीरिक स्वास्थ्य को सुधारने का एक तरीका है।

3) बस्ती

  • बस्‍ती पूरे कोलन को साफ करने में मदद करती है और शरीर से अमा को बाहर निकालती है, खराब वात को भी संतुलित करती है।
  • बस्ती को पंचकर्म की माता कहा जाता है।
  • बस्‍ती का उद्देश्‍य वात का इलाज करना, मांसपेशियों को मजबूत बनाना, तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करना है।
  • अस्थापना बस्ती
  • निरुहा बस्ती
  • अनुवासन बस्ती

4) नस्य: नास्य विशेष रूप से बेल पक्षाघात की स्थिति में इंगित किया जाता है, मूर्छा, मद दृष्टि, भाषण, मांसपेशियों की कठोरता में सुधार करता है।

5) शिरोधारा: एक प्रमुख आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रिया है जो शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को सुधारने के लिए किया जाता है। यह प्रक्रिया भारतीय चिकित्सा विज्ञान, आयुर्वेद, में समृद्ध है और विशेषकर शीर्ष में धारा किया जाता है।

6) शष्टिका शाली पिंड स्वेद: शष्टिका शाली पिंड स्वेद मांसपेशियों को मजबूत करता है, प्रभावित हिस्से के रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है और आंदोलनों को आगे बढ़ाता है।

लकवे के लिए आयुर्वेद में उपयोग की जाने वाली जड़ी-बूटियाँ: – Paralysis ki ayurvedic dawa aur aushadhi

1) अश्वगंधा

  • इसे इम्युनिटी बूस्टर हर्ब भी कहा जाता है। यह ऊतकों में उपचार को बढ़ावा देता है, मांसपेशियों को मजबूत करता है, थकान का इलाज करता है।
  • यह लकवा के रोगी को इसके न्यूरोजेनरेटिव, ब्रिम्हाना गुणों के कारण दिया जाता है।

2) बाला

  • बाला मांसपेशियों, शरीर के अंगों को मजबूत करता है और हृदय (हृदय के लिए अच्छा) के रूप में कार्य करता है। अपने नाम बाला के अनुसार यह रोगी को शक्ति देता है और नसों को उत्तेजित करता है, दर्द, सुन्नता और मांसपेशियों की ऐंठन से राहत देता है।

3) निर्गुण्डी: निर्गुंडी तेल का उपयोग दर्द और जकड़न को दूर करने के लिए बाहरी अनुप्रयोग के लिए किया जाता है।

4) रसना

  • इसमें कायाकल्प करने वाले गुण, जलनरोधी गुण, मांसपेशियों को आराम देने वाले, वातहारा हैं। इसलिए लकवे के मरीज के लिए रसना बहुत जरूरी है।
  • पक्षाघात के इलाज और रोकथाम के लिए कई जड़ी-बूटियों का उपयोग औषधि निर्माण में किया जाता है।

लकवा में योग की भूमिका: – Lakwa me Yoga in hindi

लकवा में योग एक सहायक और सुरक्षित तरीका हो सकता है शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को सुधारने के लिए, लेकिन यह शुरू करने से पहले एक चिकित्सक से परामर्श करना महत्वपूर्ण है। लकवा से पीड़ित व्यक्ति को योग का अभ्यास करने के लिए निम्नलिखित सावधानियों का पालन करना चाहिए:

योग के मूल आसनों का अभ्यास करके:

  • सूर्य नमस्कार
  • त्रिकोणासन
  • बालासन
  • शवासन
  • वज्रासन
  • पश्चिमोत्तासन

ध्यान और प्राणायाम ब्लड प्रेशर को नियंत्रित कर तन और मन दोनों को शांत करता है, मोटापे को भी नियंत्रित करता है।

ऑनलाइन वीडियो कॉल पर सबसे अच्छे आयुर्वेदिक डॉक्टरों से बात करें और लकवा का इलाज और दवा प्राप्त करें। – Ayurvedic Online Consultation for Paralysis

Recent Blogs

महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने
Hindi Blog

महिलाओं में कामेच्छा कम होने के कारण और महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाय

0
आज के इस ब्लॉग में हम एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा करेंगे – महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने के…
पीसीओडी का इलाज संभव है
AyurvedaHindi Blog

पीसीओडी कैसे होता है? पीसीओडी का इलाज, लक्षण, कारण और उपचार

0
पोलीसिस्टिक ओवरी डिजीज (PCOD) महिलाओं में हॉर्मोनल असंतुलन का कारण बनता है जिससे अनियमित मासिक धर्म, हिरसुटिज़म, और वजन में…
Menu